श्रीरामनाम- के इतने रसिक हैं, श्रीहनुमान जी कि हमेशा कीर्तन करते रहते। और कीर्तन करने वालों की सदा रक्षा और सहायता करते रहते।

श्री हनुमंतलालजी विशेषरूप से श्रीराम-नाम-के कीर्तनपरायण ही रहा करते है। नाम-कीर्तन प्रारम्भ करते ही प्रेमोन्मत्त हो जाते हैं। उनके नेत्रों से प्रेमाश्रुओं की झड़ी-सी लग जाती है। सम्पूर्ण श्री विग्रह…

श्री मारूतिनन्दन के इस मंत्र स्त्रोत से आपको शीध्र शत्रुओं पर विजय मिलेगी, निडर हो जायेगें।

ऊँ नमो वायुपुत्राय भीमरूपाय धीमते। नमस्ते रामदूताय कामरूपाय श्रीमते।। 1।। मोहशोकविनाशाय सीताशोकविनाशिने। भग्नाशोकवनायस्तु दग्धलंकाय वाग्मिने।। 2।। ऊँ भयंकर रूपधारी बुद्धिमान् वायुपुत्र हनुमान को नमस्कार है। जो स्वेच्छानुसार रूप धारण करने…

जाके गति है हनुमान की। –

जाके गति है हनुमान की।ताकी पैज पूजि आई, यह रेखा कुलिस पषानकी।।अघटित-घटन, सुघट-विघटन, ऐसी बिरूदावलि नहिं आनकी।सुमिरत संकट-सोच-बिमोचन, मूरति मोद-निधानकी।तापर सानुकूल गिरिजा हर, लखन, राम अरू जानकी।।सुलसी कपिकी कृपा-बिलोकनि, खानि…

श्री हनुमान जी ने अपने पूरे शरीर में सिन्दूर क्यों लगाया, अदभुद कथा?

एक दिन श्री हनुमान जी को बहुत तेज भूख लगी। बजरंगबली महावीर हनुमानजी बहुत ही सहज सरल और भोले हैं। इनके भोलेपन एवं श्री रघुनाथजी के चरण कमलों में इनकी…

श्री धाम अयोध्या जी के पाॅच हनुमान मंदिर जो अपने आप में अनूठे है।

श्री हनुमान जी के भक्तों की खुशी के लिए मैं इस तरह से प्रयास करता हॅू कि श्री हनुमान जी की लीलायें उनके चमत्कार एवं स्थानों की जानकारी संग्रह करके…

श्री हनुमानगढ़ी अयोध्या के पाॅच रहस्य/चमत्कार क्या आप जानते है? लखनऊ, फैजाबाद के नवाब श्री मंसूरअली ने 52 वीघा जमीन क्यों दान की थी?

1– श्री हनुमानगढ़ी में जब आप दर्शन करते हैं तो आपको हनुमान जी के मुखारविन्द के दर्शन हुये होंगें, लेकिन यहाॅ पर श्री मारूतिनन्दन की एक और मूर्ति है। वह…

हनुमान जी की वीरता

(1) ‘रामकी कृपासे पार उदधि अपार हुआ,दर्शसे तुम्हारे अम्ब! जीवन सफल ये।दानवों सहित नष्ट-भ्रष्ट कर दूॅं, जो कहोपस्त कर दूॅं, मैं अभी लंकाके महल ये।भूख भी लगी है, जाश रोष…