lord hanuman

यदि आप हनुमानजी के भक्त हैं और श्री हनुमानजी के मंदिर के बारे में जानना चाहते हैं तो मैं आपको आज पूना, महाराष्ट्र(maharashtra) के दो प्रसिद्ध हनुमान मंदिर के बारे में बताने जा रहा हॅँू। यह दोनों मंदिर अपने आप में अलग ही हैं।

1-डुल्या मारूति (DULYA  MARUTI MANDIR)

गणेश पेठ के यह मारूति अत्यन्त प्रसिद्ध हैं। श्री डुल्या मारूति का मन्दिर लगभग 400 वर्ष पूर्व का है। सम्पूर्ण मन्दिर पत्थर का बना हुआ है एवं अत्यन्त आकार्षक और भव्य है। वस्तुतः डुल्या मारूति की मूति एक काले पत्थर पर उत्कीर्ण है। यह श्री मूर्ति पाँच फीट ऊँची, ढाई-तीन फीट चैड़ी तथा अत्यन्त भब्य काली मूति के लावण्य के साथ शुभ्र नेत्र की ज्योति सजीव दिखने वाली है। मूर्ति के दाहिने पाश्र्व में श्री गणेशजी की एक छोटी-सी मूर्ति है। श्री मारूति एवं गणेश जी दानों ही मंगल मूर्ति कहे जाते हैं। इस मूर्ति की स्थापना महाराष्ट्र अकलकोट के प्रसिद्ध संन्त श्री समर्थ रामदास स्वामी द्वारा की गयी थी। ऐसा वहाँ के पुजारी द्वारा बताया गया। सभामण्डप में गर्भागार के द्वार के ठीक सामने छत से टँगा एक मध्यम आकार का पीतल का घंटा है। जिसके ऊपर शक-संवत् 1700 खुदा हुआ है। श्री डुल्या मारूति पूना में भक्तों का हमेशा तांता लगा रहता है। जिस मूर्ति के दर्शन 100000 लोग कर लेते हैं वह मूर्ति सिद्ध हो जाती है। इसलिये यह स्थान सिद्ध स्थान है। जब भी पूना जायें दर्शन जरूर करें।

2-पूना में ही सोन्या मारूति का स्थान भी है- (SONYA MARUTI MANDIR) Pune 

लक्ष्मी मार्ग पर स्थित यह मंन्दिर सर्वत्र प्रसिद्ध है। सोन्या मारूति का मन्दिर बिलकुल छाटा सा है तीन फीट चैड़ा और पाँच-छः फीट ऊँचा ही है तथा रास्ते से तीन फीट ऊँचे चबूतरे पर बना है। मन्दिर और श्री मूर्ति पश्चिमाभिमुख है। इस मूर्ति के नीचे बगलमें देव-मन्दिर की भूमि पर ही एक दूसरी 9-10 इंच ऊँची सिन्दूर से ढकी हुई मूल मूर्ति है। इस स्थान की काफी प्रसिद्धि है।
पूना जाने पर इन दोनों स्थानों के दर्शन जरूर करना चाहिये।

जय सियाराम जय हनुमान।

लेखक- अनिल यादव।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *